SpreadIt News | Digital Newspaper

योग-आयुर्वेद को धर्म के साथ जोड़ने पर राष्ट्रपति नाराज, कह डाली ‘यह’ बड़ी बात…

योग-आयुर्वेद को धर्म के साथ जोड़ने पर राष्ट्रपति नाराज, कह डाली ‘यह’ बड़ी बात…

नई दिल्ली: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शनिवार को कहा कि आयुर्वेद और योग को किसी खास धर्म या समुदाय से जोड़ना ‘दुर्भाग्यपूर्ण’ है.

Advertisement

राष्ट्रपति कोविंद ने ‘आरोग्य भारती’ द्वारा आयोजित आरोग्य मंथन कार्यक्रम “एक राष्ट्र एक स्वास्थ्य प्रणाली” का उद्घाटन करते हुए यह बात कही।

राष्ट्रपति ने नागरिकों को स्वस्थ बनाने के समग्र दृष्टिकोण के साथ संगठित तरीके से काम करने के लिए आरोग्य भारती की सराहना की। उन्होंने राष्ट्रीय स्तर पर अपनी गतिविधियों के विस्तार के लिए संस्था की प्रशंसा की।

Advertisement

“जब हर व्यक्ति स्वस्थ होगा, तो सभी परिवार स्वस्थ होंगे। कोविंद ने कहा कि अगर हर परिवार स्वस्थ रहेगा तो हर गांव और हर शहर स्वस्थ रहेगा और इस तरह पूरा देश स्वस्थ रहेगा।

राष्ट्रपति ने कहा कि वर्ष 2017 में घोषित राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति के तहत सरकार का लक्ष्य गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवाओं को सस्ती कीमत पर सभी के लिए सुलभ बनाना है।

Advertisement

उन्होंने कहा, “इस नीति का उद्देश्य सभी के लिए व्यापक और समग्र तरीके से स्वास्थ्य सुविधाओं की व्यवस्था करना भी है।”

उन्होंने आगे कहा कि इन लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए सरकारी और निजी क्षेत्र के संस्थानों की भागीदारी के साथ-साथ समाज के सभी वर्गों, विशेषकर जागरूक नागरिकों का सहयोग आवश्यक है।

Advertisement

इस बीच, राष्ट्रपति ने कोविड -19 महामारी के खिलाफ लड़ने के प्रयासों के लिए दुनिया भर के वैज्ञानिकों का भी आभार व्यक्त किया।

उन्होंने कहा “पिछले ढाई वर्षों से, दुनिया अभूतपूर्व कोविड -19 महामारी से पीड़ित है। दुनिया भर के डॉक्टरों और वैज्ञानिकों ने अपने शोध और प्रयासों से लोगों की जान बचाई। मैं वैज्ञानिकों का आभार व्यक्त करता हूं।”

Advertisement

राष्ट्रपति का मध्य प्रदेश का तीन दिवसीय दौरा शुक्रवार शाम राज्य की राजधानी भोपाल पहुंचने के साथ शुरू हुआ। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और राज्यपाल मंगूभाई पटेल ने उनका भव्य स्वागत किया।

Advertisement