SpreadIt News | Digital Newspaper

यह कुतुब मीनार हिंदू राजा द्वारा बनाया सूर्य स्तंभ है, पूर्व अधिकारी ने दिया सनसनीखेज बयान, जानिए क्या है पूरा मामला 

यह कुतुबमीनार हिंदू राजा द्वारा बनाया सूर्य स्तंभ है, पुरातत्व सर्वेक्षण पूर्व अधिकारी ने दिया सनसनीखेज बयान, जानिए क्या है पूरा मामला

नई दिल्ली:  देश में इन दिनों कई मुद्दों पर चर्चा हो रही है, जिनमें ज्ञानवापी मंदिर, ताजमहल, कुतुब मीनार शामिल हैं. इस बीच भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के एक पूर्व अधिकारी ने कुतुब मीनार को लेकर सबसे बड़ा दावा किया है।

Advertisement

 

उन्होंने दावा किया कि कुतुब मीनार का निर्माण 5वीं शताब्दी में राजा विक्रमादित्य ने किया था ताकि वे सूर्य की बदलती दिशा को देख सकें। उन्होंने यह भी कहा है कि वह अपने दावे के समर्थन में सबूत पेश करेंगे।

Advertisement

 

दावा ऐसे समय में आया है जब ज्ञानवापी से लेकर मुथुरा में ईदगाह, दिल्ली की जामा मस्जिद तक पहला मंदिर होने की बात कही जा रही है। इसको लेकर कोर्ट में याचिका भी दायर की गई है।

Advertisement

भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के क्षेत्रीय निदेशक धर्मवीर शर्मा ने दावा किया कि कुतुब मीनार को कुतुब अल-दीन अबक ने नहीं बल्कि राजा विक्रमादित्य ने बनवाया था। उन्होंने इसे सूर्य की दिशा का अध्ययन करने के लिए बनाया था।

 

Advertisement

उन्होंने कहा- यह कुतुब मीनार नहीं, बल्कि सन टावर है। इसे 5वीं शताब्दी में राजा विक्रमादित्य ने बनवाया था। उन्होंने दावा किया कि यातना के माध्यम से उनका कबूलनामा हासिल किया गया था। उन्होंने आगे कहा कि कुतुब मीनार का एएसआई द्वारा कई बार सर्वेक्षण किया जा चुका है।

 

Advertisement

धर्मवीर शर्मा ने आगे कहा- कुतुब मीनार का झुकाव 25 इंच है। ऐसा इसलिए है क्योंकि इसे सूर्य का अध्ययन करने के लिए बनाया गया था। 21 जून को कम से कम 30 मिनट तक कोई छाया नहीं दिखेगी । यह एक विज्ञान और पुरातत्व तथ्य है।

 

Advertisement

उन्होंने कहा कि कुतुब मीनार एक अलग संरचना है और इसका मस्जिद से कोई लेना-देना नहीं है। उन्होंने कहा कि कुतुब मीनार का द्वार उत्तर दिशा में है, जिसे रात्रि ध्रुव तारे को देखने के लिए बनाया गया था।

Advertisement