SpreadIt News | Digital Newspaper

प्रेग्नेंसी में इन आदतों का करोगे पालन, तो आपके बच्चे का दिमाग होगा कंप्यूटर से तेज, जानिए गर्भावस्था में पालन करने वाली आदते

प्रेग्नेंसी में इन आदतों का करोगे पालन, तो आपके बच्चे का दिमाग होगा कंप्यूटर से तेज, जानिए गर्भावस्था में पालन करने वाली आदते

स्वास्थ्य: गर्भवती होने पर एक महिला के लिए हर पल बहुत खास होता है। वह खुद से ज्यादा अपने बच्चे की परवाह करती है।

Advertisement

ऐसे में हर महिला चाहती है कि उसकी खुद की सुरक्षित डिलीवरी हो और वह चाहती है कि बच्चा पूरी तरह से स्वस्थ दिखे।

 जब बच्चा गर्भ में होता है तो उसका बच्चे के साथ भावनात्मक जुड़ाव हो जाता है और वह अपने बच्चे के लिए तरह-तरह के सपने देखने लगती है।

Advertisement

ऐसे में हर महिला चाहती है कि उसका बच्चा स्वस्थ और बुद्धिमान हो, जिससे भविष्य में उसका नाम रोशन हो। हालाँकि, बुद्धि काफी हद तक जीन्स पर निर्भर है।

लेकिन कुछ हद तक हमारी डाइट और लाइफस्टाइल भी इसमें अहम भूमिका निभाती है। यहां जानिए उन चीजों के बारे में जो बच्चे के दिमाग के विकास में अहम भूमिका निभाती हैं।

Advertisement

अंडे में सेलेनियम, जिंक, विटामिन ए और डी के साथ-साथ कोलीन नामक पोषक तत्व होता है जो शरीर के लिए काफी फायदेमंद माना जाता है।

कुछ शोध बताते हैं कि अगर गर्भवती महिला अंडे का सेवन करती है तो इससे बच्चे के दिमागी विकास, सीखने की क्षमता और अच्छी याददाश्त में सुधार होता है।

Advertisement

इसके अलावा बच्चे की हड्डियां भी मजबूत होती हैं। लेकिन अंडे को वार्मिंग प्रभाव माना जाता है, इसलिए इनका सेवन करने से पहले किसी विशेषज्ञ से सलाह लें।

मस्तिष्क की गतिविधियाँ करें

Advertisement

ओमेगा 3 फैटी एसिड से भरपूर भोजन बच्चे के मानसिक विकास के लिए बहुत महत्वपूर्ण होता है। इसके लिए आहार में मछली, सोयाबीन, नट्स, अखरोट और अलसी को शामिल करना बेहद जरूरी है।

सीखने की कला मां के गर्भ से शुरू होती है। गर्भावस्था के दौरान यदि मां रचनात्मक कार्य करती है, मस्तिष्क का व्यायाम करती है, तर्क, सुडोकू आदि हल करती है, तो बच्चे का दिमाग बहुत तेज हो जाता है।

Advertisement

इसके अलावा किताबें पढ़ना, काम लिखना और संगीत सुनना आदि का भी इस दौरान सकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

योग और ध्यान

Advertisement

मानसिक स्वास्थ्य के लिए योग बहुत जरूरी है। विशेषज्ञ की सलाह से योग को अपनी दिनचर्या का हिस्सा बनाएं। इसके अलावा तनाव का असर बच्चे पर भी पड़ता है। इसे समाप्त करने के लिए आप प्रतिदिन ध्यान करें।

Advertisement