SpreadIt News | Digital Newspaper

एक ही जगह बैठकर घंटो काम करते है तो सावधान, यह आपको गंभीर स्वास्थ समस्या दिला सकता है, जानिए इसके दुष्परिणाम और हल

एक ही जगह बैठकर घंटो काम करते है तो सावधान, यह आपको गंभीर स्वास्थ समस्या दिला सकता है, जानिए इसके दुष्परिणाम और हल

स्वास्थ्य: आज की लाइफस्टाइल में ज्यादातर लोग लंबे समय तक काम करने के कारण अपने स्वास्थ्य के प्रति लापरवाह हो जाते हैं। अनियमित खान-पान और नियमित व्यायाम न करना लोगों की जिंदगी का हिस्सा बन गया है।

Advertisement

इतना ही नहीं, लोग कहीं भी पास जाने के लिए पैदल चलने के बजाय कार या बाइक का इस्तेमाल करते हैं, जबकि पैदल चलने के कई फायदे हैं। वॉकिंग और फिजिकली एक्टिव रहने से ब्लड सर्कुलेशन सही रहता है।

शरीर की कोशिकाओं को उचित रक्त संचार से ही ऑक्सीजन मिलती है। जब शरीर के हर हिस्से में पर्याप्त रक्त संचार नहीं होता है तो हाथ-पैर ठंडे या सुन्न हो जाते हैं।

Advertisement

अगर आपकी त्वचा पतली है तो पैरों का रंग भूरा हो सकता है। खराब रक्त संचार के कारण त्वचा रूखी हो सकती है, नाखून अपने आप टूट सकते हैं और बालों का झड़ना बढ़ सकता है।

  लंबे समय तक बैठे रहने, उच्च रक्तचाप, धूम्रपान की आदत, स्वस्थ आहार का पालन न करने और व्यायाम न करने के कारण रक्त प्रवाह का धीमा होना हो सकता है।

Advertisement

लंबे समय तक बैठे रहना

PubMed gov के अनुसार, बैठने या सोने से पैर की मांसपेशियों में रक्त का प्रवाह 90% तक धीमा हो जाता है।

Advertisement

लंबे समय तक बैठे रहने से रक्त के थक्कों का खतरा बढ़ जाता है। ऐसे में 30 मिनट की मीटिंग के बाद 3 मिनट का गैप जरूरी है।

हेल्थलाइन के अनुसार, उच्च रक्तचाप से धमनियों के सख्त होने का खतरा बढ़ जाता है, जिससे रक्त प्रवाह में रुकावट आ सकती है।

Advertisement

धूम्रपान

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ (एनआईएच) के अनुसार, सिगरेट और तंबाकू में निकोटीन के रूप में सक्रिय तत्व होते हैं।

Advertisement

यह धमनी की दीवारों को नुकसान पहुंचाता है, रक्त को गाढ़ा करता है। इससे रक्त प्रवाह बाधित होता है।

रक्तसंचार नार्मल रखने के लिए अपनाइए यह टिप्स

Advertisement

पत्तेदार सब्जियों का सेवन

पालक जैसी पत्तेदार सब्जियों में नाइट्रेट होते हैं, इसलिए शरीर उन्हें नाइट्रिक ऑक्साइड में बदल देता है। यह रक्त वाहिकाओं को चौड़ा करता है।

Advertisement

 यह रक्त प्रवाह में सुधार करता है। इसी तरह कम से कम 5 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलना रक्त प्रवाह के लिए बहुत फायदेमंद होता है।

Advertisement