SpreadIt News | Digital Newspaper

महंगाई को रोकने के लिए मोदी सरकार ने उठाया सख्त कदम, ‘इस’ चीज की निर्यात पर रोक, जानिए इसका आम आदमी को फायदा होगा या नही?

महंगाई को रोकने के लिए मोदी सरकार ने उठाया सख्त कदम, ‘इस’ चीज की निर्यात पर रोक, जानिए इसका आम आदमी को फायदा होगा या नही?

नई दिल्ली : मोदी सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। केंद्र सरकार ने गेहूं के निर्यात पर सशर्त रोक लगा दी है। घरेलू बाजार में गेहूं की बढ़ती कीमतों को देखते हुए यह फैसला लिया गया है।

Advertisement

हालांकि गेहूं का निर्यात कुछ शर्तों के साथ जारी रहेगा। सरकार का फैसला पहले से अनुबंधित निर्यात पर लागू नहीं होगा। सरकार की ओर से नोटिफिकेशन भी जारी कर दिया गया है। अधिसूचना में कहा गया है, “भारत, पड़ोसी देशों और अन्य कमजोर देशों की खाद्य सुरक्षा खतरे में है।”

केंद्र सरकार ने कहा कि इस कदम का उद्देश्य देश की समग्र खाद्य सुरक्षा को पूरा करना और पड़ोसी और कमजोर देशों की जरूरतों को पूरा करना है।

Advertisement

अधिसूचना में कहा गया है, “भारत सरकार पड़ोसी और अन्य संवेदनशील विकासशील देशों की खाद्य सुरक्षा जरूरतों को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध है, जो वैश्विक गेहूं बाजार में अचानक बदलाव से प्रतिकूल रूप से प्रभावित हैं और गेहूं की पर्याप्त आपूर्ति प्राप्त करने में असमर्थ हैं।”

सरकार ने आगे कहा कि वैश्विक गेहूं की कीमतों में तेज वृद्धि हुई है, जिसके परिणामस्वरूप भारत, पड़ोसी देशों और अन्य विकासशील देशों के लिए खाद्य सुरक्षा को खतरा है।

Advertisement

रूस और यूक्रेन के बीच चल रहे युद्ध के कारण गेहूं की अंतरराष्ट्रीय कीमत में लगभग 40 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। जिससे भारत से निर्यात बढ़ा है। मांग बढ़ने से स्थानीय स्तर पर गेहूं और आटे की कीमतों में तेज उछाल आया है।

गौरतलब है कि गेहूं का एमएसपी 2,015 रुपये प्रति क्विंटल है। देश में गेहूं और आटे की खुदरा महंगाई अप्रैल में बढ़कर 9.59% हो गई, जो मार्च में 7.77% थी।

Advertisement

इस साल गेहूं की सरकारी खरीद में करीब 55 फीसदी की गिरावट आई है क्योंकि खुले बाजार में गेहूं की कीमत एमएसपी से काफी ज्यादा है।

Advertisement