SpreadIt News | Digital Newspaper

नवनीत राणा को कोर्ट से मिली राहत, लेकिन इन शर्तों को पूरा करना होगा, जानिए पूरा मामला

नवनीत राणा को कोर्ट से मिली राहत, लेकिन इन शर्तों को पूरा करना होगा, जानिए पूरा मामला

महाराष्ट्र की राजनीति में इस समय दो नाम काफी चर्चा में हैं। एक हैं मनसे अध्यक्ष राज ठाकरे और दूसरे हैं अमरावती से निर्दलीय सांसद नवनीत राणा।

Advertisement

नवनीत राणा और उनके पति, जो हनुमान चालीसा विवाद के सिलसिले में जेल में बंद हैं, उनको मुंबई सत्र न्यायालय ने जमानत दे दी है। हालांकि इससे पहले एक बड़ा अपडेट आया था कि नवनीत राणा को मुंबई की भायखला जेल से जेजे अस्पताल ले जाया गया है।

गौरतलब है कि 23 अप्रैल को जब सांसद नवनीत राणा और उनके पति रवि राणा ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के घर के बाहर मातोश्री के बाहर हनुमान चालीसा का पाठ करने की घोषणा की तो महाराष्ट्र की राजनीति में भूचाल आ गया। हालाँकि, जैसे-जैसे मामला आगे बढ़ा, राणा दंपत्ति ने अपना कार्यक्रम छोड़ दिया।

Advertisement

विवाद के बाद, मुंबई पुलिस ने उनके खिलाफ मामला दर्ज किया और देशद्रोह के आरोप जोड़े। गिरफ्तारी के बाद दोनों को अदालत में पेश किया गया और फिर 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया।

रवि राणा को पहले आर्थर रोड जेल भेजा गया था लेकिन जगह की कमी के कारण उन्हें नवी मुंबई के तलोजा जेल में स्थानांतरित कर दिया गया था। लेकिन अब उन्हें जमानत पर रिहा कर दिया गया है।

Advertisement

मुंबई सत्र न्यायालय ने नवनीत राणा और उनके पति रवि राणा को 50,000 रुपये के मुचलके पर जमानत दे दी है । अदालत ने कहा कि जिस मामले में उसे गिरफ्तार किया गया था, उन्हें वैसा कुछ नहीं करना होग।

शर्तें पूरी नहीं करने पर जमानत रद्द कर दी जाएगी। अदालत ने जमानत देते हुए कहा कि राणा दंपत्ति मीडिया के सामने मामले से जुड़ी किसी भी बात पर बात नहीं कर सकते। राणा दंपत्ति को जांच में सहयोग करना होगा।

Advertisement

अगर उन्होंने गवाह या सबूतों के साथ छेड़छाड़ करने की कोशिश की तो भी उनकी जमानत रद्द कर दी जाएगी। जब भी पुलिस पूछताछ के लिए बुलाए तो उनको उपस्थित रहना होगा। हालांकि इसके लिए पुलिस उन्हें 24 घंटे का समय देगी और उन्हें 24 घंटे पूर्व नोटिस भी दिया जाएगा.

Advertisement