SpreadIt News | Digital Newspaper

देश में कोरोना ने एक बार फिर उठाया सिर, अचानक हुई आंकड़ों में वृद्धि, क्या यह चौथी लहर की शुरुआत है?

देश में कोरोना ने एक बार फिर उठाया सिर, अचानक हुई आंकड़ों में वृद्धि, क्या यह चौथी लहर की शुरुआत है?

नई दिल्ली:  देश में एक बार फिर अचानक से कोरोना के मामलों में इजाफा देखने को मिल रहा है. पिछले 24 घंटों में कोविड -19 मामलों की संख्या एक महीने में पहली बार दोगुनी होकर 2,000 से अधिक हो गई है। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक केरल में भी महामारी से मरने वालों की संख्या में इजाफा हुआ है.

Advertisement

पिछले कुछ दिनों से लगातार बढ़ रहे कोरोना के मामले
आपको बता दें कि पिछले साल अप्रैल में देश में कोरोना महामारी ने कहर बरपाया था. अप्रैल में, देश वैश्विक संकट का केंद्र था। लेकिन तब से स्थिति में सुधार हुआ है और वर्तमान में मास्क पहनने सहित अधिकांश सावधानियां हटा ली गई हैं। लेकिन देश में पिछले कुछ दिनों से कोरोना के मामले बढ़ते ही जा रहे हैं.

दिल्ली और उत्तर प्रदेश में कोरोना के खिलाफ एहतियात बरती गई है. भारत के सबसे अधिक आबादी वाले राज्य के कुछ जिलों में सार्वजनिक स्थानों पर मास्क अनिवार्य कर दिया गया है। स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक सोमवार को कोरोना के कुल 2,183 नए मामले सामने आए। अब तक कम से कम 214 लोगों की मौत हो चुकी है। 

Advertisement

केरल को विशेष सूचना 

केंद्र सरकार ने कहा कि केरल ने 13 अप्रैल के बाद से कोरोना से एक भी मौत का आंकड़ा नहीं भेजा है। पांच दिन के अंतराल से मरने वालों की संख्या इतनी अधिक है। आंकड़ों में अचानक आई तेजी को देखते हुए स्वास्थ्य मंत्रालय ने सभी राज्यों से कहा कि कोविड के आंकड़े रोजाना और सावधानी से भेजना अनिवार्य है.

Advertisement

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक, देश में अब तक 5,22,000 लोगों की कोरोना से मौत हो चुकी है . लेकिन कुछ वैश्विक जानकारों का कहना है कि भारत में कोरोना से मरने वालों की संख्या 40 लाख तक हो सकती है. 

भारत सरकार ने बार-बार इन अटकलों का खंडन किया है। भारत सरकार का मानना ​​है कि एक छोटे से देश में मौत का अनुमान लगाने के लिए जिस गणितीय मॉडल का इस्तेमाल किया जाता है उस पर भरोसा नहीं किया जा सकता। आखिर भारत की आबादी बहुत ज्यादा है।

Advertisement