SpreadIt News | Digital Newspaper

अरे बापरे ‘इस’ शिवसेना नेता ने राज ठाकरे की तुलना ओवेसी से की, जानिए आखिर क्यों उनको महाराष्ट्र का ओवेसी बोला गया?

अरे बापरे ‘इस’ शिवसेना नेता ने राज ठाकरे की तुलना ओवेसी से की, जानिए आखिर क्यों उनको महाराष्ट्र का ओवेसी बोला गया?

मुंबई: पिछले कुछ महीनों से महाराष्ट्र में सियासी बयानबाजी अपने चरम पर है। भाजपा बनाव शिवसेना, शिवसेना बनाम मनसे आदि नेताओं के एक दूसरे पर बयान देना जारी है। हालांकि पिछले महीने से राज ठाकरे काफी चर्चा में है। ED की करवाई के बाद 2 सालों से चुप राज ठाकरे अब राजनीति में सक्रिय हो चुके है। हालांकि इस बार उन्होंने U टर्न लेकर अपने पक्ष की भूमिका की पटरी बदल दी है।

Advertisement

अब राज ठाकरे मराठी का मुद्दा छोड़ अब हिंदुत्व की ओर चल पड़े है। हालांकि वे अब मुसलमानों को अपना निशाना बना रहे है। उन्होंने अपने भाषणों में खुले आम मस्जिदों में।लगने वाले लाउडस्पीकर का विरोध करते हुए, इसे बंद करने की महाराष्ट्र सरकार से मांग की है। उन्होंने सरकार पर इसपर निर्णय लेने के लिए 3 मई तक का अल्टीमेटम दिया है।

मनसे अध्यक्ष राज ठाकरे ने मस्जिद में लाउडस्पीकर के जवाब में मस्जिदों के सामने लाउडस्पीकर लगाकर हनुमान चालीसा बजाने की भूमिका ली है. इसलिए राज्य में माहौल काफी गर्म है। इस मुद्दे पर शिवसेना ने सीधे तौर पर राज ठाकरे की तुलना ओवैसी से कर दी। इसलिए मनसे ने भी शिवसेना को इसे सीधे तौर पर लेने की चेतावनी दी है।

Advertisement

शिवसेना सांसद संजय राउत ने महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना को सीधे तौर पर MIM और राज ठाकरे को बीजेपी का ओवैसी बताया है. राज ठाकरे ने मस्जिद पर लगे हॉर्न से आक्रामक रुख अख्तियार कर तीखे हिंदुत्व की लाइन ले ली है।

 राज ठाकरे ने लाउडस्पीकर पर आजान के जवाब में मस्जिदों के सामने हनुमान चालीसा बजाने की भूमिका निभाई है। सरकार को डर है कि राज ठाकरे की इस भूमिका से राज्य में कानून-व्यवस्था की स्थिति बिगड़ सकती है। इसलिए अधिकारियों ने राज ठाकरे की सीधे ओवैसी से तुलना करके मनसे के आंदोलन से हवा निकालने की कोशिश की है।

Advertisement

राउत द्वारा राज ठाकरे की ओवैसी से तुलना करने से मनसैनिक नाराज हो गए हैं। MNS ने दादर में पार्टी ऑफिस के सामने पोस्टर लगाकर राउत को कड़ी चेतावनी दी है.

Advertisement