SpreadIt News | Digital Newspaper

रेल यात्रियों के लिए बुरी खबर, अब सफर पर लगेगा डीजल टैक्स, किराए में ‘इतनी’ होगी बढ़ोतरी 

रेल यात्रियों के लिए बुरी खबर, अब सफर पर लगेगा डीजल टैक्स, किराए में ‘इतनी’ होगी बढ़ोतरी

नई दिल्ली: डीजल से चलने वाली ट्रेनों में लंबी दूरी के यात्रियों को अधिक किराया देना पड़ सकता है। 15 अप्रैल से टिकट बुकिंग के समय किराए में बढ़ोतरी को रेल यात्रा से जोड़ा जाएगा। रेलवे बोर्ड डीजल इंजन से चलने वाली ट्रेनों में यात्रा करने वाले यात्रियों पर 10 रुपये से 50 रुपये के बीच हाइड्रोकार्बन अधिभार या डीजल कर लगाने की योजना बना रहा है। 

Advertisement

यह अधिभार उन ट्रेनों पर लागू होगा जो डीजल इंजन का उपयोग करके आधी से अधिक दूरी तय करती हैं। यह कदम बढ़ते आयात दरों की वजह से लगाया जा रहा है। 

इतना बढ़ेगा किराया 

Advertisement

एसी क्लास के लिए न्यूनतम 50 रुपये बढ़ोतरी , स्लीपर क्लास के लिए 25 रुपये और सामान्य वर्ग के लिए 10 रुपये किराया बढ़ेगा। उपनगरीय रेल यात्रा टिकटों पर ऐसा कोई अधिभार नहीं लगाया जाएगा।

रेलवे बोर्ड ने सभी जोनों को उन ट्रॉन की सूची बनाने का निर्देश दिया है।  जो ट्रेन अपनी निर्धारित दूरी के 50 फीसदी पर डीजल से चलते हैं उनकी लिस्ट बनाए। इन ट्रेनों के टिकट में वृद्धि होगी। 

Advertisement

रूस और यूक्रेन के बीच संघर्ष के साथ-साथ सऊदी अरब और यमन के बीच संघर्ष के बीच यह फैसला आया है। इन युद्धों की वजह से वैश्विक तेल की कीमतों को रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंचा दिया है। भारत द्वारा रूस से रियायती कीमतों पर तेल आयात करने के बावजूद आपूर्ति में कमी है। लगातार 12 दिनों तक ईंधन की बढ़ती कीमतों के साथ देश में उपभोक्ता ईंधन की कीमतें रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई हैं।

HCS सरचार्ज का इस्तेमाल भारतीय रेलवे के चालू विद्युत अभियान के लिए भी किया जाएगा। रेलवे राष्ट्रीय ट्रांसपोर्टर मिशन 100% विद्युतीकरण-शुद्ध शून्य कार्बन उत्सर्जन योजना के तहत जनता पर यह चार्ज लगाया जाता है। 

Advertisement