SpreadIt News | Digital Newspaper

यूक्रेन-रशिया युद्ध के बिच भारत सरकार का बड़ा फैसला, जानिए भारत सरकार ने क्या किया?

यूक्रेन-रशिया युद्ध के बिच भारत सरकार का बड़ा फैसला, जानिए भारत सरकार ने क्या किया?

कीव: रूस और यूक्रेन के बीच भीषण युद्ध का आज 18वां दिन है।  रूस लगातार यूक्रेन पर हमला कर रहा है। पहले ऐसा लगता था कि दोनों देशों के बीच बातचीत से स्थिति में सुधार होगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। हालात सुधरने की बजाय बिगड़ते जा रहे हैं।

Advertisement

रूसी सैनिक यूक्रेन पर बम और मिसाइलों से लगातार हमला कर रहे हैं । यूक्रेन में लाखों लोग बेघर हो गए हैं। लाखों देश छोड़कर भाग गए। यूक्रेन में स्थिति बिगड़ती जा रही है। इसी बीच भारत सरकार ने भी एक बड़ा फैसला लिया है। मोदी सरकार ने एक बड़े फैसले में यूक्रेन से अपना दूतावास अस्थायी रूप से हटा लिया है।

भारतीय दूतावास को अब पोलैंड स्थानांतरित किया जाएगा। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने एक बयान में कहा कि यूक्रेन में भारतीय दूतावास को पोलैंड में स्थानांतरित करने का निर्णय यूक्रेन में तेजी से बिगड़ती सुरक्षा स्थिति और देश के पश्चिमी हिस्से में हुए हमलों को देखते हुए लिया गया।

Advertisement

गौरतलब है कि कुछ घंटे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यूक्रेन के हालात पर एक उच्च स्तरीय सुरक्षा बैठक की अध्यक्षता की थी। इस बीच, पीएम मोदी को ‘ऑपरेशन गंगा’ के तहत भारतीय नागरिकों और भारत के पड़ोसी देशों के नागरिकों को वापस लाने के सरकार के प्रयासों के बारे में भी जानकारी दी गई।

संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी के अनुसार, 17 दिन पहले देश पर रूसी आक्रमण के बाद से कम से कम 2.5 मिलियन लोग यूक्रेन से भाग गए हैं। यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोडिमिर ज़ेलेंस्की ने शनिवार को कहा कि रूस यूक्रेन में अपने देश को तोड़ने के लिए एक नया गणराज्य बनाने की कोशिश कर रहा है। ज़ेलेंस्की ने शनिवार रात राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में यह टिप्पणी की।

Advertisement

रूसी सेना ने रविवार सुबह पश्चिमी यूक्रेन में एक सैन्य प्रशिक्षण अड्डे पर धावा बोल दिया, जिससे रूस का आक्रमण पोलैंड के साथ यूक्रेन की सीमा के करीब पहुंच गया। क्षेत्रीय प्रशासन ने संभावित हताहतों के बारे में कोई ब्योरा दिए बिना कहा कि लविवि से 30 किलोमीटर उत्तर पश्चिम में यारोविव सैन्य रेंज में आठ रॉकेट दागे गए।

Advertisement