SpreadIt News | Digital Newspaper

पिज़्ज़ा, बर्गर खाने वाले लोगों के लिए बुरी खबर, सरकार ‘इस’ बात पर जल्द ही लगाने वाली है बैन, जानिए पूरा विवरण

पिज़्ज़ा, बर्गर खाने वाले लोगों के लिए बुरी खबर, सरकार ‘इस’ बात पर जल्द ही लगाने वाली है बैन, जानिए पूरा विवरण

नई दिल्ली: बच्चों में बढ़ते मोटापे से चिंतित सरकार ने एक बड़ा निर्णय लेने का फैसल किया है। स्वास्थ्य के लिए हानिकारक माने जाने वाले जंक फूड से जुड़े विज्ञापनों पर जल्द ही प्रतिबन्ध लग सकता है। आई कांटे है विस्तार से।

Advertisement

उपभोक्ता मामले मंत्रालय (Consumer Affairs Ministry) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने हाल ही में हुई बैठक में इस संबंध में सुझाव दिया था। महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण के आंकड़ों का हवाला देते हुए कहा कि देश में बचपन में मोटापे की बढ़ती घटनाएं इसका स्पष्ट संकेत हैं।

एक वरिष्ठ अधिकारी ने एक बड़ी न्यूज़ एजेंसी को बताया कि भारतीय खाद्य सुरक्षा एवं मानक प्राधिकरण ( FSSAI ) भी खाद्य उत्पादों के पैकेट पर पोषक तत्वों के ब्योरे से संबंधित नियम लेकर आया है, जिसे गाइड में भी शामिल किया जा सकता है। गाइड मार्च के अंत तक सामने आने  की उम्मीद है।

Advertisement

गैर-ब्रांडेड स्नैक्स, भुजिया, सब्जी चिप्स और स्नैक्स पर माल और सेवा कर (जीएसटी) 5 प्रतिशत लगाया जाता है, जबकि ब्रांडेड और पैकेज्ड उत्पादों पर जीएसटी 12 प्रतिशत है। राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण (NFHS-5) 2019-20 के अनुसार, मोटापे से ग्रस्त महिलाओं की संख्या 2015-16 में 20.6 प्रतिशत से बढ़कर 24 प्रतिशत हो गई है। पुरुषों के मामले में यह आंकड़ा 18.4 फीसदी बढ़कर 22.9 फीसदी हो गया है.

FSSAI की योजना ऐसे उत्पादों की पैकेजिंग में दी गई जानकारी को स्थानांतरित करने की है। ‘जंक फूड’ नियमन के लिए उत्पादों में पोषण संबंधी जानकारी रखने की योजना है। उत्पाद पैकेजिंग के सामने उत्पाद पोषण संबंधी जानकारी प्रकाशित करने की योजना है।

Advertisement

पैकेट के पीछे की जगह खाने की जानकारी ऐसी जगह प्रकाशित की जाएगी जो उपभोक्ताओं को आसानी से दिखाई दे। इस तरह की जानकारी अब उत्पाद पैकेजिंग के आगे या पीछे की तरफ के बजाय स्पष्ट होगी।

Advertisement