SpreadIt News | Digital Newspaper

अविश्वसनीय: इस महिला ने हासिल की ‘HIV’ जीत, बनी दुनिया की पहिली महिला जो पूरी तरह हुई HIV मुक्त; जानें विस्तार से

अविश्वसनीय: इस महिला ने हासिल की ‘HIV’ जीत, बनी दुनिया की पहिली महिला जो पूरी तरह हुई HIV मुक्त; जानें विस्तार से

दुनिया के सबसे खतरनाक लाइलाज बिमारियों में से एक HIV संक्रमित व्यक्ति का इस बिमारी से उभर पाना आज तक नामुमकिन माना जाता रहा। HIV विषाणु के कारण होने वाली ऎड्स एक अत्यधिक संक्रामक और घातक बीमारी है और इसे अब तक लाइलाज माना जाता था।  लेकिन इस बीच वैज्ञानिकों को बड़ी सफलता मिली है। अमेरिकी वैज्ञानिकों ने एचआईवी के इलाज के लिए एक नई तकनीक विकसित की है।

Advertisement

 संक्रमित महिला पूरी तरह  हुई  स्वस्थ 
HIV संक्रमित एक महिला पूरी तरह से स्वस्थ हो चुकी है। इसे सभी चमत्कार की तरह देख रहे है। ख़ास बात है की यह महिला एचआईवी से उबरने वाली दुनिया की पहली महिला बन गई है।

इससे पहले केवल 2 लोग ही एचआईवी से ठीक हुए थे। रिमोथी रे ब्राउन, जिन्हें द बर्नेल पेशेंट के नाम से भी जाना जाता है, 12 साल तक वायरस की चपेट से मुक्त रहे और 2020 में कैंसर से उनकी मृत्यु हो गई। साल 2019 में एचआईवी से संक्रमित एडम कैस्टिलेजो का भी सफलतापूर्वक इलाज किया गया था।

Advertisement

ऐसे हुआ उपचार 

न्यूयॉर्क टाइम्स के मुताबिक, शोधकर्ताओं ने कहा कि महिला का इलाज स्टेम सेल ट्रांसप्लांट से किया गया। स्टेम सेल एक ऐसे व्यक्ति द्वारा दान किए गए थे जो स्वाभाविक रूप से एचआईवी वायरस का विरोध करने की क्षमता रखता था।

Advertisement

2013 में एचआईवी की सूचना मिली थी।
महिला को 2013 में एचआईवी से संक्रमित होने की सूचना मिली थी। चार साल बाद उसे ल्यूकेमिया का पता चला। इस ब्लड कैंसर का इलाज हैप्लो-कॉर्ड ट्रांसप्लांट से किया गया।

इस बीच, महिला के करीबी रिश्तेदारों ने भी उसकी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने के लिए रक्तदान किया। महिला का आखिरी बार साल 2017 में ट्रांसप्लांट किया गया था और पिछले 4 साल में वह ल्यूकेमिया से पूरी तरह उबर चुकी है। डॉक्टरों ने भी प्रत्यारोपण के तीन साल बाद एचआईवी के लिए उसका इलाज करना बंद कर दिया।  और अब वो बिलकुल स्वस्थ हो चुकी है।

Advertisement