SpreadIt News | Digital Newspaper

Tax लगाया मतलब क्रिप्टोकरंसी Legal नहीं किया, वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने दिया ‘यह’ अजीब कारण

नई दिल्ली: क्रिप्टोकरंसी जिसे भविष्य का चलन माना जा रहा है। इसकी वैधता को लेकर भारत में काफी तरह की भिन्न-भिन्न अटकले है। इस साल के बजट में वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने क्रिप्टोकरंसी पर होने वाले मुनाफे पर टैक्स लगाया है। इस वजह से सभी को लग रहा था की अब देश क्रिप्टोकरंसी एक कानूनी चलन बन जाएगा।

हालांकि यह बिलकुल गलत साबित हुआ। निर्मला सीतारमण ने यह स्पष्ट कर दिया की भले ही हमने टैक्स लगा दिया हो, इसका मतलब यह नहीं है की क्रिप्टोचलन की हमने वैध बना दिया है। उन्होंने इसकी एक अजीब वजह भी बताई। तो आइए जानते है आखिर निर्मला सीतारमण ने क्या कारण देकर क्रिप्टोचलन की अब भी वैध नहीं माना।

Advertisement

इस वजह से लगाया है टैक्स 

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने एक बार फिर क्रिप्टोकरेंसी पर सरकार के रुख को स्पष्ट किया है। उन्होंने कहा कि सरकार को क्रिप्टोक्यूरेंसी लेनदेन से होने वाले मुनाफे पर कर लगाने का अधिकार है। उन्होंने यह भी कहा कि इस पर प्रतिबंध लगाने का निर्णय विचार-विमर्श के आधार पर लिया जाएगा।

Advertisement

डिजिटल मुद्रा के रूप में केवल ‘डिजिटल रुपये’ होगा वैध 
आपको बता दें कि 1 फरवरी को संसद में निर्मला सीतारमण द्वारा पेश किए गए बजट में क्रिप्टोकरेंसी लेनदेन पर 30% कर लगाने की बात की गई थी। तब से, सरकार द्वारा निवेश को मान्य करने की बात चल रही है। अपने बजट भाषण में, वित्त मंत्री ने कहा कि आरबीआई द्वारा जारी किए गए ‘डिजिटल रुपये’ को ही डिजिटल मुद्रा के रूप में मान्यता दी जाएगी।

Advertisement