SpreadIt News | Digital Newspaper

अब आपकी जमीन का भी होगा आधार नंबर, जानिए कैसे काम करेगी यह प्रणाली?

नई दिल्ली: जैसा की हम सब जानते है अब भारत में सबसे महत्वपूर्ण दस्तऐवज के बारे में बात किया जाए तो कोई भी बेझिजक आधार कार्ड का नाम लेता है। लगभ सभी कामों के लिए हमें आधार नंबर की जरुरत पड़ रही है। इस वजह से भारत में लगभग सभी लोगों के पास अपना आधार नंबर है।

इसी बिच एक चौंका देने वाली खबर सामने आ रही है। अब इंसानो की तरह आपकी जमीन का भी आधार नंबर होगा। चौंक गए न ? लेकिन यह बिलकुल सच है। तो आइए इसके बारे में विस्तार से जानते है।

Advertisement

केंद्र सरकार वन नेशन वन रजिस्ट्रेशन प्रोग्राम के तहत जमीनों के लिए यूनिक रजिस्टर्ड नंबर जारी करने की प्रक्रिया में है।  वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट 2022 में  इस बात की घोषणा की। इस घोषणा के अनुसार भूमि रिकॉर्ड को डिजिटल रखा जाएगा। इसके लिए IP आधारित तकनीक का इस्तेमाल किया जाएगा। जमीन के दस्तावेजों की मदद से उनका रिकॉर्ड डिजिटल रखा जाएगा।

एक  क्लिक पर मिलेगी जमीन की पूरी जानकारी :
केंद्र सरकार का लक्ष्य 2023 तक देश भर में भूमि रिकॉर्ड को डिजिटल बनाना है। इसका उद्देश्य मार्च 2023 तक देश भर में भूमि रिकॉर्ड का डिजिटलीकरण करना है। अगले कुछ दिनों में सिर्फ एक क्लिक पर आपकी जमीन से जुड़े दस्तावेज आपके सामने होंगे। आप देश में कहीं भी अपनी जमीन से संबंधित जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

Advertisement

डिजिटल ग्राउंड रिकॉर्डिंग कई तरह से लाभ प्रदान करेगी। इसे 3C फॉर्मूले के हिसाब डिलीवर किया जाएगा, जिससे सभी फायदे मिलेंगे। इसमें सेंट्रल ऑफ रिकॉर्ड्स, कलेक्शन ऑफ रिकॉर्ड्स, कंवीनियंस ऑफ रिकॉर्ड्स से आम आदमी को काफी फायदा होगा।  इसके अलावा 14 अंकों का यूएलपीआईएन नंबर यानी आपकी जमीन का यूनिक नंबर जारी किया जाएगा। आसान भाषा में जमीन का आधार नंबर भी जारी किया जा सकता है।

Advertisement