SpreadIt News | Digital Newspaper

अजितदादाने खेली बडी गेम, जाने महाराष्ट्र मे काँग्रेस का क्या हुआ हाल?

मुंबई: जैसे की हम सब जानते है, महाराष्ट्र में इस बार कांग्रेस, शिवसेना और राष्ट्रवादी कांग्रेस इन तीनों पक्षों ने गठबंधन कर के महाविकास आघाडी सरकार बनाई है। देखा जाए तो इन तीनों पक्षों में शिवसेना और राष्ट्रवादी कांग्रेस का ही ज्यादा बोलबाला है। कहने की जरुरत नहीं महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री अजित दादा पवार एक दिग्गज राजनेता है। उनकी महाराष्ट्र की राजनीति में जबरदस्त पकड़ है।

अजित पवार हमेशा सुर्ख़ियों में रहते है। इस बार उन्होंने कांग्रेस का ऐसा गेम किया जिसे कोई सोच भी नहीं सकता। उन्होंने अपने ही मित्रपक्ष कांग्रेस के २७ से ज्यादा बड़े नेताओं को अपनी पार्टी राष्ट्रवादी में शामिल।  जी हाँ आपने बिलकुल सही पढ़ा, इस घटना की वजह से महाराष्ट्र कांग्रेस इकाई अभी सदमे में है।

Advertisement

उपमुख्यमंत्री अजीत पवार की मौजूदगी में मालेगांव से कांग्रेस के कुल 27 पूर्व विधायक और पार्षद राकांपा में शामिल हो गए हैं।  इनमें पूर्व विधायक राशिद शेख शफी, 27 कांग्रेस से और एक नेता असद्दुद्दीन ओवेसी की पार्टी एमआईएम से है।

कांग्रेस के पूर्व विधायक राशिद शेख ने कहा, ‘हालांकि राज्य में कांग्रेस का सफाया हो गया था, लेकिन हमने मालेगांव में कांग्रेस को बनाए रखा। लेकिन अब कांग्रेस को हमारी जरूरत नहीं, कोई हमारी तरफ नहीं देखता, कोई पूछता नहीं।  विलासराव देशमुख हमें देख रहे थे। लेकिन अब कोई देखने वाला नहीं है। नाना पटोले ने दो बार समय दिया और वे नहीं आए। राशिद शेख शफी ने कहा है कि हम इन्हीं चीजों की वजह से पार्टी छोड़ रहे हैं।’

Advertisement

इस मौके पर बोलते हुए अजित पवार ने कहा कि यह प्रवेश कार्यक्रम मालेगांव को बड़ा बनाने के लिए था लेकिन कोरोना आ गया है, इस वजह से कड़े नियम हैं, हम नियम नहीं तोड़ सकते।  इसलिए हमने यहां एक कार्यक्रम करने का फैसला किया।

उन्होंने यह भी कहा कि वह आने वाले समय में मालेगांव को विकास कामों के लिए अच्छा फंड देने की कोशिश करेंगे। साथ ही एनसीपी में शामिल होने के लिए सभी का धन्यवाद।

Advertisement