SpreadIt News | Digital Newspaper

इस साल के बजट में बढ़ सकता है FD पर ब्याज, जानिए किस वर्ग को होगा ज्यादा फायदा?

नई दिल्ली: देश का साल २०२२-२३ के लिए अर्थ बजट बनाने की तैयारी जोरो पर चल रही है। इस बिच कई अर्थतज्ञ और राजनितिक दलों के नेता अपने सुझाव अर्थमंत्री निर्मला सीतारमण को दे रहे है। निर्मला सीतारमण को राजनीतिक दलों के नेताओं द्वारा कई मांगे मिल रही है।

इसी बिच शिवसेना नेता और संसद प्रियंका चतुर्वेदी ने भी एक अहम मुद्दे को उठाकर एक महत्वपूर्ण मांग की है। उन्होंने बुजुर्गों और सेवानिवृत्त लोगों की आर्थिक समस्याओं को दूर करने का आह्वान किया गया है। उन्होंने केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को पत्र लिखकर वरिष्ठ नागरिकों के लिए सावधि जमा (Fixed Deposit) पर विशेष ब्याज दर तय करने का अनुरोध किया है ।

Advertisement

प्रियंका चतुर्वेदी ने पोस्ट ऑफिस सेविंग स्कीम्स और पब्लिक प्रॉविडेंट फंड यानी पीपीएफ पर निवेश की सीमा हटाने की भी अपील की है।  सीतारमण को लिखे पत्र में चतुर्वेदी ने कहा कि बचत योजनाओं पर कम ब्याज दरों के कारण आज वरिष्ठ नागरिकों के पास सेवानिवृत्ति निधि बहुत कम है। इससे उनकी जेब पर भारी बोझ पड़ा है, खासकर कोविड-19 महामारी के दौरान उन्हें कई परेशानियों का सामान करना पड़ रहा है।

राज्यसभा सदस्य चतुर्वेदी ने अपने पात्र में आगे कहा कि आम बजट एक ऐसा अवसर है जब सरकार ऐसे लोगों की दुर्दशा को दूर कर सकती है। उन्होंने कहा कि उच्च मुद्रास्फीति दर को देखते हुए वर्तमान में ब्याज दर बहुत कम है।

Advertisement

हाल के वर्षों में, FD पर ब्याज दरें 12 प्रतिशत से गिरकर 5 प्रतिशत हो गई हैं। उन्होंने कहा कि डाकघर बचत योजना पर ब्याज दर घटकर सात फीसदी और निवेश की सीमा 15 लाख रुपये है। इस पर सरकार को बुजुर्गों के हित में निर्णय लेना होगा।

Advertisement