SpreadIt News | Digital Newspaper

दुकानो के बोर्ड मराठी करने के बावजुद भी ‘उस’ मुद्दे पर राज ठाकरे आक्रमक; जानिये पुरा मामला

मुंबई :

महाराष्ट्र में शॉप बोर्ड (Marathi boards on shops) अब मराठी में ही होंगे। बुधवार (12 जनवरी, 2022) को राज्य कैबिनेट की बैठक में इस संबंध में निर्णय लिया गया। महाराष्ट्र दुकान और आस्थापना (रोजगार का विनियमन और सेवा की शर्तें) अधिनियम, 2017 में संशोधन करने और खामियों को दूर करने का निर्णय लिया।इसलिए अब से छोटी दुकानों के बोर्ड भी बडी दुकानो की तरह मराठी में ही लगाने होंगे।

Advertisement

इस निर्णय के बाद मनसे अध्यक्ष राज ठाकरे ने आज ट्वीट कर कहा कि इसका श्रेय सिर्फ मनसे के महाराष्ट्रसैनिकों को है।

क्या कहा है राज ठाकरे ने?

Advertisement

मनसे अध्यक्ष राज ठाकरे ने अपने ट्वीट में कहा की, महाराष्ट्र में दुकानों के बोर्ड मराठी में होने चाहिए, वास्तव में इसके लिये कोई आंदोलन की जरुरत ही नहीं होनी चाहिए। लेकिन 2008 और 2009 में बोर्ड मराठी में होने चाहिए, इसलिए महाराष्ट्र सैनिकों ने महाराष्ट्र को जगाया, आंदोलन किया, सैकड़ों मुकदमे लिए और उन्हें सजा भुगतनी पडी।

कल महाराष्ट्र कैबिनेट ने फैसला किया की, दुकानों पर बोर्ड मराठी में ही होनी चाहिए, तो उसका श्रेय सिर्फ मेरे महाराष्ट्रसैनिकों को है। मेरे महाराष्ट्रसैनिकों सभी बधाई। इस निर्णय श्रेय किसी और  नहीं है, इसका श्रेय लेकेका पागलपन मत करो। इस पर सिर्फ महाराष्ट्रसैनिकों का हक़ है।

Advertisement

कोई भी इस निर्णय श्रेय न ले, इसके लिये राज ठाकरे ने आक्रमक भाषा का प्रयोग किया है।

Advertisement