SpreadIt News | Digital Newspaper

‘मैं कहीं नहीं भागा, मैं अब भी देश में हूं’, सुप्रीम कोर्ट ने दी परमबीर सिंह को कानूनी सुरक्षा

नई दिल्ली: मुंबई के पूर्व पुलिस प्रमुख परम बीर सिंह अभी भी देश में हैं, हालांकि सार्वजनिक रूप सेवे सामने नहीं आ रहे है। पिछले हफ्ते उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर कर गिरफ्तारी से कानूनी सुरक्षा की मांग की थी। सुप्रीम कोर्ट की ओर से याचिका को स्वीकार कर लिया गया है। हालांकि उनके खिलाफ रंगदारी मामले की जांच में पूरा सहयोग करने का निर्देश दिया गया है। 

मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह ने गुरुवार को जबरन वसूली मामले में पुलिस द्वारा गिरफ्तारी से बचने के लिए कानूनी सुरक्षा के लिए शीर्ष अदालत से अपील की थी। उस वक्त सुप्रीम कोर्ट ने  पूछा था कि परमबीर सिंह कहां हैं? क्या वह देश में ही है या विदेश भाग गया है? इसके जवाब में परमबीर सिंह के वकील ने कहा, ”परमबीर सिंह भाग नहीं रहे हैं, वह भारत में ही हैं।”

Advertisement

सुप्रीम कोर्ट में उनके वकील ने कहा था, “परमबीर सिंह देश से भागना नहीं चाहते हैं और वह भगोड़ा घोषित नहीं होना चाहते हैं। लेकिन उनकी जान को खतरा है। इसलिए उन्होंने कानूनी सुरक्षा की अपील की है ।”

परमबीर सिंह ने अपने लिखित बयान में यह भी कहा, “कोर्ट को यह नहीं सोचना चाहिए कि मैं डरा हुआ हूं। मुझे न्यायिक प्रक्रिया पर पूरा भरोसा है। मैं सीबीआई कोर्ट में पेश होने के लिए भी तैयार हूं। लेकिन मेरा पीछा किया जा रहा है। मेरे खिलाफ 6 मुकदमे दर्ज हैं, मैं बहुत मुश्किल में हूं। कृपया मेरी रक्षा करें। मैं पुलिस विभाग का मुखिया था, भागूंगा नहीं।”

Advertisement

 उनके वकील ने कहा, “मुंबई पुलिस उन्हें तभी गिरफ्तार कर सकती है जब वह महाराष्ट्र की जमीन पर पैर रखे। कई सटोरियों और विभिन्न अवैध गतिविधियों में शामिल लोगों ने भी उनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई है। नतीजतन, अगर वे मुंबई लौटते है तो उनकी जान को खतरा हो सकता है। ”

इस साल फरवरी में मुकेश अंबानी के घर से विस्फोटकों से लदी एक कार बरामद होने के बाद महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने परमबीर सिंह को पुलिस आयुक्त के पद से हटा दिया था। पुलिस आयुक्त के पद से हटाए जाने के तुरंत बाद, परमबीर सिंह ने महाराष्ट्र के तत्कालीन गृह मंत्री अनिल देशमुख के खिलाफ जबरन वसूली का आरोप लगाया था। 

Advertisement