SpreadIt News | Digital Newspaper

अशोक गहलोत की नई कैबिनेट में पांच पायलट समर्थक को मिल सकती है जगह…. आज मंत्री लेंगे शपथ…!

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपने मंत्रिमंडल के सभी सदस्यों का इस्तीफा ले लिया है। राजस्थान कैबिनेट में होने वाले फेरबदल से पहले ही सभी मंत्रियों ने सीएम अशोक गहलोत को अपना इस्तीफा सौंप दिया है। सीएम अशोक गहलोत की अध्यक्षता वाली नई कैबिनेट में 5 पायलट समर्थक होने की उम्मीद बनती नजर आ रही है।

राजस्थान सरकार के नए मंत्रिमंडल का रविवार को शपथ लेने का विधि संपन्न होने वाला है। लेकिन इससे पहले प्रदेश कांग्रेस कमेटी की बैठक होने की खबर सामने आ रही है। राजस्थान कैबिनेट की शनिवार को जयपुर में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के आवास पर बैठक हो गई थी। और आगे इसी बैठक के दौरान मंत्रियों ने अपना इस्तीफा दे दिया था।

Advertisement

गहलोत सरकार की नई राजस्थान कैबिनेट में हेमाराम चौधरी, महेंद्रजीत सिंह मालवीय, रामलाल जाट, महेश जोशी, विश्वेंद्र सिंह, रमेश मीणा, ममता भूपेश, टीकाराम जूली, भजन लाल जाटव, गोविंद राम मेघवाल और शकुंतला रावत यह सब नए कैबिनेट मंत्री देखे जा सकते है।

वही, जाहिदा, बृजेंद्र ओला, राजेंद्र गुडा और मुरारी लाल मीणा को राज्य मंत्री बनाया जाने की संभावना भी है। पूर्व परिवहन मंत्री प्रताप सिंह कचरियावास ने मीडिया को बताया कि ”सभी मंत्रियों ने इस्तीफा दे दिया है. पुनर्गठन को ध्यान में रखते हुए अब प्रक्रिया पूरी हो गई है।

Advertisement

बहुप्रतीक्षित कैबिनेट फेरबदल से एक दिन पहले ही राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपनी सरकार के सभी मंत्रियों के इस्तीफे स्वीकार लिए हैं। नए मंत्रिमंडल का शपथ ग्रहण समारोह आज राजभवन में हो सकता है। आगे कैबिनेट फेरबदल की उलटी गिनती दिल्ली में कांग्रेस नेता सचिन पायलट और वरिष्ठ नेताओं के बीच कई दौर की बैठकों के साथ शुरू हो गई है।

अशोक गहलोत ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी सहीत पार्टी नेताओं से भी मुलाकात की है। सचिन पायलट के समर्थकों के मंत्रिमंडल में शामिल होने की उम्मीद है। वही दूसरी ओर उन्हें राजस्थान के बाहर पार्टी में प्रमुख भूमिका भी दी जा सकती है।

Advertisement

गहलोत की कैबिनेट में बसपा के कुछ पूर्व विधायक भी शामिल हो सकते है। इन विधायकों का राजस्थान में कांग्रेस में विलय हो गया है, जिससे कांग्रेस को 200 सदस्यीय सदन में सहज बहुमत मिला। कैबिनेट में सीट नहीं मिलने से कांग्रेस नेता सचिन पायलट अपने समर्थकों और वफादार विधायकों से नाखुश रहते दिखते हैं। इसके चलते कांग्रेस में विवाद हो रहे है।

हाल ही में कांग्रेस हाईकमान ने अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच अलग-अलग बैठकें हुई है।आगे यह भी माना जा रहा है कि बैठक में अशोक गहलोत को स्पष्ट संदेश दिया जा चुका है कि कैबिनेट विस्तार में सचिन पायलट के विश्वस्त विधायक को जगह दी जानी चाहिए।

Advertisement