SpreadIt News | Digital Newspaper

अनिद्रा से बढ़ सकता है डायबिटीज का खतरा, अनिद्रा से बचने के लिए अपनाइए यह नुस्खे

आजकल डायबिटीज एक गंभीर समस्या बन गई है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, दुनिया भर में लगभग 422 मिलियन लोगों को मधुमेह है। अगर मधुमेह के पीछे के कारणों पर गौर किया जाए तो एक नहीं बल्कि एक से अधिक कारण सामने आएंगे। इनमें अस्वास्थ्यकर जीवनशैली, अस्वास्थ्यकर खाने की आदतें, नियमित रूप से व्यायाम न करना, अत्यधिक तनाव, बहुत अधिक मीठा खाना आदि शामिल हैं।

एक हालिया अध्ययन के अनुसार, उपरोक्त कारणों के अलावा, अनिद्रा मधुमेह का एक प्रमुख कारण है। जब नींद पूरी नहीं होती है तो शरीर में कई तरह की बीमारियां पैदा हो जाती हैं। पर्याप्त नींद न लेने से मेटाबॉलिज्म प्रक्रिया प्रभावित हो सकती है। नींद की कमी कोर्टिसोल जैसे तनाव हार्मोन को बढ़ाती है।

Advertisement

कोर्टिसोल हार्मोन उच्च रक्त शर्करा का कारण बन सकता है। तनाव हार्मोन कार्बोहाइड्रेट और शर्करा युक्त खाद्य पदार्थों और पेय पदार्थों के लिए आपकी भूख को बढ़ा सकते हैं, जिससे वजन बढ़ सकता है और इस प्रकार टाइप 2 मधुमेह हो सकता है।

इतना ही नहीं, अगर आप पर्याप्त नींद नहीं लेते हैं, तो शरीर में हार्मोन लेप्टिन भी कम हो जाता है, जिससे शरीर में कार्बोहाइड्रेट की इच्छा बढ़ जाती है। लेप्टिन कार्बोहाइड्रेट चयापचय को नियंत्रित करने के लिए भी जिम्मेदार है। इसलिए, यदि आप अनिद्रा से पीड़ित हैं, तो आपको अपने शर्करा के स्तर पर नज़र रखने की आवश्यकता है।

Advertisement

अमेरिकन एकेडमी ऑफ स्लीप मेडिसिन एंड द स्लीप रिसर्च सोसाइटी के अनुसार, स्वस्थ और फिट रहने के लिए प्रति रात कम से कम सात घंटे की नींद जरूरी है। दिन में थकान महसूस होना खराब नींद का एक बड़ा संकेत है। अनिद्रा के कुछ लक्षण भी होते हैं। जैसे धीमी सोच और कम एकाग्रता, थकान और ऊर्जा की कमी, खराब याददाश्त, मिजाज, चिंता, तनाव और चिड़चिड़ापन।

यदि आप उपरोक्त में से किसी भी लक्षण का अनुभव करते हैं, तो आपको सप्ताहांत पर भी, दैनिक नींद का कार्यक्रम बनाए रखने की आवश्यकता है। स्वस्थ नींद चक्र को बनाए रखने के लिए यहां कुछ सरल उपाय दिए गए हैं।

Advertisement
  • आपका शयनकक्ष एक अंधेरा, आरामदायक और शांत जगह पर होना चाहिए
  • सोने से पहले फोन की स्क्रीन न देखें, क्योंकि इससे नींद में बाधा आ सकती है
  • दिन में शारीरिक रूप से सक्रिय रहें
  • सोने से पहले आराम करें
  • सोने से पहले नहा लें
  • सोने से पहले फोन की बजाय किताबें पढ़ें
  • सोने से पहले कैफीन यानी चाय और कॉफी, शराब और निकोटीन का सेवन न करें
  • रात के खाने में हल्का भोजन करें