SpreadIt News | Digital Newspaper

भारत की अर्थव्यवस्था 10% से अधिक तेज गति से बढ़ेगी? जानिए विस्तार से

नई दिल्ली: नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने मंगलवार को कहा कि चालू वित्त वर्ष में देश की आर्थिक वृद्धि दर 10 प्रतिशत या इससे अधिक रहेगी। अगले वित्त वर्ष 2022-23 में इसके 8 प्रतिशत से अधिक रहने का अनुमान है। पुस्तक विमोचन के अवसर पर बोलते हुए राजीव कुमार ने कहा ‘केंद्र में नरेंद्र मोदी सरकार के सात वर्षों के दौरान कंपनियों के विकास के लिए एक मजबूत आर्थिक नींव रखी गई है।’

IMF ने 9.5% ग्रोथ का लगाया था अनुमान

Advertisement

कोविड-19 महामारी पिछले दो साल से आर्थिक विकास के मोर्चे पर एक समस्या बनी हुई है। अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) ने 2021 में 9.5 प्रतिशत की वृद्धि का अनुमान लगाया है। राजीव कुमार ने कहा, “मौद्रिक कोष के अनुसार, भारत अगले पांच वर्षों में सबसे तेजी से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था होगा।”

वित्तीय वर्ष 2022-23 में 8% से अधिक होगी विकास दर

Advertisement

नीति आयोग के उपाध्यक्ष ने आगे कहा, ‘चालू वित्त वर्ष 2020-21 में भारत की विकास दर 10 प्रतिशत रहेगी। इसके बाद जब देश कोविड महामारी से बाहर आ जाएगा तो वित्त वर्ष 2022-23 में हमारी विकास दर 8 प्रतिशत से अधिक हो जाएगी। उन्होंने पहले भी कहा था कि वित्त वर्ष 2021-22 में हमारी अर्थव्यवस्था कम से कम 10 फीसदी की दर से बढ़ेगी। जो लोग यह दावा कर रहे थे कि यह 9.5 प्रतिशत या उससे कम होगा, वे गलत साबित हुए है।’

भारतीय रिजर्व बैंक ने चालू वित्त वर्ष के लिए अपने आर्थिक विकास के अनुमान को 10.5 प्रतिशत से घटाकर 9.5 प्रतिशत कर दिया है। वहीं, मुद्रा कोष ने 2021 में 9.5 फीसदी और अगले साल 8.5 फीसदी की विकास दर का अनुमान लगाया है। राजीव कुमार ने कहा, “बदलाव आ रहा है और लोग भारत में निवेश करने के लिए पूरी तरह तैयार हैं।”

Advertisement

नीति आयोग के उपाध्यक्ष ने कहा कि मध्यम अवधि में भारत की संभावित सतत विकास दर 8 प्रतिशत तक रहेगी। पिछले महीने, आईएमएफ ने महामारी का हवाला देते हुए भारत के निरंतर मध्यम अवधि के विकास की संभावना को घटाकर 6 प्रतिशत कर दिया था।

Advertisement