SpreadIt News | Digital Newspaper

अखिलेश यादव नहीं लड़ेंगे उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव, जानिए वजह

लखनऊ :अगले साल 2022 में उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव होने वाले है। पिछले कुछ समय से देश का सबसे बड़ा राज्य विभिन्न मुद्दों के लिए चर्चा में है। इसी बीच समाजवादी पार्टी के नेता और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने व्यावहारिक रूप से युद्ध छेड़ दिया। सोमवार को उन्होंने कहा कि वह अगले विधानसभा चुनाव में नहीं लड़ेंगे।

इसमें कोई शक नहीं कि इस खबर से राज्य की राजनीति में हलचल मच जाएगी। मुलायम पुत्र ने कहा कि राष्ट्रीय लोक दल के साथ समाजवादी पार्टी के चुनावी गठबंधन को अगले साल के चुनाव के लिए अंतिम रूप दिया गया है।

Advertisement

गिर सकता है पार्टी कार्यकर्ताओं का मनोबल 

आजमगढ़ विधानसभा से लड़ने वाले समाजवादी पार्टी के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार अखिलेश ने कहा है कि वह में नहीं लड़ेंगे। अखिलेश के इस फैसले से राजनीतिक थोड़े हैरान हैं।  उनके मुताबिक इस बार उत्तर प्रदेश का चुनाव चौतरफा होगा।  उनके चुनाव के लिए न खड़े होने से पार्टी कार्यकर्ताओं का मनोबल गिर सकता है। 

Advertisement

अखिलेश के चुनाव नहीं लड़ने का फैसला सामने आने के बाद विपक्षी दलों को हर तरह का कटाक्ष करना होगा।  दूसरी ओर, राजनीतिक विशेषज्ञों के अनुसार, इस बार उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी मुख्य विपक्षी दल थी। 

उत्तर प्रदेश के हाई वोल्टेज विधानसभा चुनाव में इस बार विपक्षी दलों के बीच गठबंधन नहीं हुआ। इससे पहले, अखिलेश की समाजवादी पार्टी और मायावती की बहुजन समाजवादी पार्टी ने गठबंधन किया और भाजपा के खिलाफ लड़ाई लड़ी, लेकिन भाजपा से बड़े अंतर से हार गई।

Advertisement

इस बार की शुरुआत में अखिलेश ने कहा था कि किसी बड़े विपक्षी दल से ज्यादा छोटी पार्टियों के साथ गठबंधन करने में उनकी दिलचस्पी है।  ऐसे कई छोटे समूहों से वे बात कर रहे हैं। अखिलेश के इस फैसले से गठबंधन की यह प्रक्रिया बाधित तो नहीं हो रही है, इस पर सबकी नजर रहेगी। 

Advertisement