SpreadIt News | Digital Newspaper

गृह मंत्री ने पुलवामा में CRPF कैंप में बिताई रात, बताया पीएम का खास सपना

श्रीनगर: केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने दो साल के लंबे अंतराल के बाद  जम्मू-कश्मीर का दौरा किया।  हालांकि उनका सोमवार को दिल्ली लौटने का कार्यक्रम था, लेकिन गृह मंत्री ने एक और रात CRPF कैंप में बिताई। अपनी यात्रा के अंतिम दिन, उन्होंने पुलवामा के लेखपोरा में CRPF कैंप में रात बिताई।  बता दे कि इसी कैंप पर 2019 में पाकिस्तानी आतंकवादियों ने हमला किया था।

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने सोमवार को कहा, “मोदी सरकार ने आतंकवाद के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति अपनाई है और पिछले कुछ सालों में जम्मू-कश्मीर की स्थिति में काफी सुधार हुआ है।” CRPF कैंप में रात बिताने को लेकर गृह मंत्री ने कहा, ‘मैं चाहता हूं कि मैं यहाँ (CRPF जवान) रात भर रुक के आपकी समस्याओं को समझ सकूँ.’

Advertisement

जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा के बारे में उन्होंने कहा कि पिछले कुछ वर्षों में घाटी में कानून-व्यवस्था की स्थिति में काफी सुधार हुआ है। उन्होंने कहा, “मुझे उम्मीद है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जिस शांतिपूर्ण जम्मू-कश्मीर की कल्पना की थी, वह कल सफल होगा।”

आतंकवाद पर गृह मंत्री ने कहा, ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार आतंकवाद पर किसी भी तरह की सहिष्णुता की नीति का पालन नहीं करती है। हम मानवता पर इस तरह के हमले को कभी स्वीकार नहीं करेंगे। कश्मीर के लोगों को ऐसे जघन्य अपराधों में शामिल लोगों से बचाना हमारी जिम्मेदारी है.”

Advertisement

अमित शाह ने अनुच्छेद 370 के निरस्त होने के बाद किसी भी खूनी संघर्ष की अनुमति नहीं देने के लिए सीआरपीएफ और अन्य सुरक्षा बलों को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा, “भारतीय सेना और CRPF बलों ने आतंकवादियों पर काबू पा कर देश की सुरक्षा सुनिश्चित की है।”

गृह मंत्री ने कहा कि संविधान के अनुच्छेद 360 और 35 के निरस्त होने के बाद कई लोगों ने कहा था कि कड़ी प्रतिक्रिया होगी। खूनी संघर्ष की संभावना थी, लेकिन जिस तरह से भारतीय सेना, सीआरपीएफ और अन्य सुरक्षा बलों ने स्थिति को संभाला, उससे एक भी दंगा नहीं हुआ।

Advertisement